पितृ दोष और उपचार (Pitra Dosha and its Remedies)

pitra-doshaमृत्यु के पश्चात संतान अपने पिता का श्राद्ध नहीं करते हैं एवं उनका जीवित अवस्था में अनादर करते हैं तो पुनर्जन्म में उनकी कुण्डली में पितृदोष ( Pitra dosha) लगता है. सर्प हत्या या किसी निरपराध की हत्या से भी यह दोष लगता है.पितृ दोष को अशुभ प्रभाव देने वाला माना जाता है. इस दोष की स्थिति एवं उपचार क्या है आइये देखते हैं.

कुण्डली में पितृ दोष: (Pitra Dosha in the Kundali)
सूर्य को पिता माना जाता है. राहु छाया ग्रह है (Rahu is a shadow planet). जब यह सूर्य के साथ युति (combination of Rahu and Sun) करता है तो सूर्य को ग्रहण लगता है इसी प्रकार जब कुण्डली में सूर्य चन्द्र और राहु मिलकर किसी भाव में युति बनाते हैं ( conjunction of Rahu, Sun and Moon) तब पितृ दोष लगता है. पितृ दोष होने पर संतान के सम्बन्ध में व्यक्ति को कष्ट भोगना पड़ता है. इस दोष में विवाह में बाधा, नौकरी एवं व्यापार में बाधा एवं महत्वपूर्ण कार्यों में बार बार असफलता मिलती है.

कुण्डली में पितृ दोष के कई लक्षण बताए जाते हैं जैसे चन्द्र लग्नेश (Moon's lord of the ascendant) और सूर्य लग्नेश (Sun's lord of the ascendant) जब नीच राशि (Debilitated sign) में हों और लग्न में या लग्नेश के साथ युति (combination) या दृष्टि (aspect) सम्बन्ध बनाते हों और उन पर पापी ग्रहों (malefic planet) का प्रभाव होता है तब पितृ दोष लगता है. लग्न व लग्नेश कमज़ोर (combusted ascendant or lord of the ascendant) हो और नीच लग्नेश के साथ राहु और शनि का युति और दृष्टि सम्बन्ध होने पर भी यह स्थिति बनती है. अशुभ भावेश (inauspicious lord of a house) शनि चन्द्र से युति या दृष्टि सम्बन्ध बनाता है अथवा चन्द्र शनि के नक्षत्र या उसकी राशि में हो तब व्यक्ति की कुण्डली पितृ दोष से पीड़ित होती है.

लग्न में गुरू नीच (combusted Jupiter) का हो और उस पर पापी ग्रहों का प्रभाव पड़ता हो अथवा त्रिक भाव (trine house) के स्वामियो से बृहस्पति दृष्ट या युति बनाता हो तब पितर व्यक्ति को पीड़ा देते हैं. नवम भाव में बृहस्पति और शुक्र की युति बनती हो एवं दशम भाव में चन्द्र पर शनि व केतु का प्रभाव हो तो पितृ दोष वाली स्थिति बनती है. शुक्र अगर राहु अथवा शनि और मंगल द्वारा पीड़ित होता है तब पितृ दोष का संकेत समझना चाहिए. अष्टम भाव में सूर्य व पंचम में शनि हो तथा पंचमेश राहु से युति कर रहा हो और लग्न पर पापी ग्रहों का प्रभाव हो तब पितृ दोष समझना चाहिए.

पंचम अथवा नवम भाव में पापी ग्रह हो या फिर पंचम भाव में सिंह राशि हो और सूर्य भी पापी ग्रहों से युत या दृष्ट हो तब पितृ दोष की पीड़ा होती है. कुण्डली में द्वितीय भाव, नवम भाव, द्वादश भाव और भावेश पर पापी ग्रहों का प्रभाव होता है या फिर भावेश अस्त या कमज़ोर होता है और उनपर केतु का प्रभाव होता है तब यह दोष बनता है. जिनकी कुण्डली में दशम भाव का स्वामी त्रिक भाव (trikha house)में होता है और बृहस्पति पापी ग्रहों के साथ स्थित होता है एवं लग्न और पंचम भाव पर पाप ग्रहों का प्रभाव होता है उन्हें भी पितृ दोष के कारण कष्ट भोगना होता है.

पितृ दोष उपचार (Remedies of Pitra Dosha)
जिनकी कुण्डली में पितृ दोष है उन्हें इसकी शांति और उपचार कराने से लाभ मिलता है. पितृ दोष शमन के लिए नियमित पितृ कर्म करना चाहिए अगर यह संभव नहीं हो तो पितृ पक्ष में श्राद्ध करना चाहिए. नियमित कौओं और कुत्तों का खाना देना चाहिए. पीपल में जल देना चाहिए. ब्राह्मणों को भोजन कराना चाहिए. गौ सेवा और गोदान करना चाहिए. विष्णु भगवान की पूजा लाभकारी है.

Tags

Categories


Please rate this article:

5.00 Ratings. (Rated by 1 people)


Write a Comment

View All Comments

287 Comments

1-10 Write a comment

  1. 22 June, 2017 12:57:07 AM jeetu

    Mera parwaric jhagde chalta rahta hai,an sab barbaad ho gaya hai kya upay karoon

  2. 09 June, 2017 12:18:52 AM Manju

    Pandit ji namaste mai apne dono judwa beto ke baare mein janana chahti hoon, unka dob 22.11.99, ek ka janam 2.00 p.m. (Monday) and dusre ka janam 2.05 p.m. baje hua hai. Pandit ji padai mein man nahi lagate har baar asafalta haath lagti hai, vaise bahut hi intelligent hai lekin result achha nahi aata dono ka. Ky upay karna chahiye

  3. 05 March, 2017 02:57:20 AM Vikram Nalavade

    DOB-6/8/1992TIME 9:20A.M

  4. 05 February, 2017 02:10:25 AM manish puri

    pandit ji parnam ji Mera name hai : manish puri d.o.b : 28 jan 1985 time : 06:50 am meri merriage mein rukavat aa rahi hai . or job bi nahi mil rahi hai.duk taklife bi hai jiwan mein shaddi ki koi bi baat hoti hai to haa ho jati hai baad mein tut jati hai koi upay batao pandit ji

  5. 22 January, 2017 05:10:00 AM umesh

    Panditji Namaste I am Umesh Joshi DOB 04/09/1972 Born. Time 11.15 AM. At Ratnagiri My Business is General Stores, Publication & Printing. Totally Down & Totally Loss.Pl. give me suggestion

  6. 27 November, 2016 07:21:55 AM ashwini gede

    Namskar panditji mere marriage life me problem hai mere shadi ko dedh sal hua h or divorce tak bat aa chuki hai muze divorce nhi dena chahati plz kuch upay bataiyeMy name is ashwini birth date27/4/1990 & my husband name sagar DOB14/10/1986

  7. 11 October, 2016 02:11:06 AM Paras Dhir

    Panditji,Mera DOB 2-12-80 hai aur 7:10 pm samay. Mera samay thik nai chal tha hai, koi job nai abhi 1 saal se upar Ho gya hai. Kuch thik nai chal rha hai. Aur image down Ho gyi hai. Aage kaisa hoga sab? Kasht kaise khatam honge sab? Jeena dukhi se bhara hai

  8. 22 September, 2016 03:29:34 PM rakesh kumar mishra

    Panditji pranam mera janm 18/01/1972ko samay 17.00baje jabalpur me hua hai Janna hai kudli me pitra dish hair ki nahi

  9. 20 September, 2016 06:09:04 AM Ashutosh Shukla

    Pandit ji mere pita ji k dehant k bad her Kam m bada aa rahi h nokri, bissines, grah kalesh sare Kam ruk rahe h muje khuch sujav D

  10. 17 September, 2016 02:05:06 PM bhaskar

    pt ji mera janm 25/01/1990 delhi 9.15 raat ka hai mai bahut pareshaan chal raha hoon aaye ke saadhan nahi hai