नंदी नाड़ी ज्योतिष (Nandi Nadi Jyotisha)

nandi-nadi-jyotish
 
भगवान शंकर के गण नदी द्वारा जिस ज्योतिष विधा को जन्म दिया गया उसे नंदी नाड़ी ज्योतिष (Nandi Nadi Astrology) के नाम से जाना जाता है. नंदी नाड़ी ज्योतिष (Nandi Nadi Jyotish) मूल रूप से दक्षिण भारत में अधिक लोकप्रिय और प्रचलित है. इस ज्योतिष विधा में ताल पत्र (Nandi Nadi Jyotish interprets writing on the Tada Patra) पर लिखे भविष्य के द्वारा ज्योतिषशास्त्री फल कथन करते हैं. ज्योतिष की यह एक अनूठी शैली है.

नाड़ी ज्योतिष की विधि (How Nandi Nadi Jyotish Works)
नाड़ी ज्योतिष विधि से जब आप अपना भविष्य जानने के लिए के लिए ज्योतिषशास्त्री के पास जाते हैं तब सबसे पहले पुरूष से उनके दायें हाथ के अंगूठे का निशान और महिलाओं से बाएं हाथ के अंगूठे का निशान लेते हैं. इसके बाद कुछ ताड़पत्र आपके सामने रखा जाता है और आपसे नाम का पहला और अंतिम शब्द पूछा जाता है. आपके नाम से जिस जिस ताड़पत्र का मिलाप होता है उससे कुछ अन्य प्रश्न और माता पिता अथवा पत्नी के नाम का मिलाप किया जाता है. जिस ताड़पत्र से मिलाप होता है उसे ज्योतिषशास्त्री पढ़कर आपका भविष्य कथन करते हैं.

नाड़ी ज्योतिष की विशेषता (Speciality of Nandi Nadi Jyotish)
अगर आपको अपनी जन्मतिथि, जन्म नक्षत्र, वार, लग्न का पता होता है तो आप आसानी से ताड़पत्री तलाश कर पाते हैं. यह विधि उनके लिए उत्तम है जिन्हें अपनी जन्मतिथि एवं जन्मसमय की जानकारी नहीं होती है.

अगर आपको भी अपनी जन्म तिथि एवं जन्म समय की जानकारी है तो आप भी इस विधि से अपना भविष्यफल जान सकते हैं. इस वधि से आप यह भी जान सकते हैं कि आपकी जन्मतिथि एवं समय क्या है (You can also find your birthdate and time). अन्य ज्योतिष विधि से अलग इसकी एक और मुख्य विशेषता यह है कि अन्य ज्योतिष विधि में बारह भाव होते हैं जिनसे फलादेश किया जाता है जबकि नंदी नाड़ी ज्योतिष विधि में सोलह भाव होते हैं (There are 16 houses in Nandi Nadi Jyotish).
इन्हें भी पढिये

नंदी नाड़ी ज्योतिष में दिन और निश्चित समय में होने वाली घटनाओं का जिक्र भी किया गया है. निश्चित समय में होने वाली घटनाओं को आधार मानकर इससे पंचाग की सत्यता की भी जांच की जा सकती है. अगर अन्य ज्योतिष विधि से प्राप्त फलादेश का नंदी नाड़ी ज्योतिष विधि से मिलान करें तो भविष्य में आपके साथ होने वाली घटनाओं के विषय में आप निश्चित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

नाड़ी ज्योतिष में विश्वास को सबसे अधिक महत्व दिया गया है. अगर आपको नाड़ी ज्योतिष पर भरोसा है तभी आपको इस विधि से भविष्य फल जानना चाहिए. अगर ग्रहों की पीड़ा निदान आप इस विधि से जानते हैं तो उसे आपको सत्य मानकर जो उपाय बताए गये हैं उसका पालन करना होता है. मान्यताओं के अनुसार अगर बताये गये उपाय पर अविश्वास कर उसका पालन नहीं करते हैं तो ग्रहों की पीड़ा बढ़ सकती है.

नाड़ी ज्योतिष में प्रत्येक भाव का फल: (Results for each bhava according to Nandi Nadi Jyotish)
प्रथम भाव यानी लग्न भाव से शरीर, स्वास्थ्य और 12 भावों का संक्षिप्त वर्णन होता है. द्वितीय भाव से धन की स्थिति, पारिवारिक स्थिति व शिक्षा एवं नेत्र सम्बन्धी विषयों का वर्णन किया जाता है. तृतीय भाव से पराक्रम और भाई बहन के विषय में जानकारी मिलती है. चतुर्थ भाव से सुख, ज़मीन जायदाद, मकान एवं वाहन सहित मातृ सुख का भी फलादेश किया जाता है. पंचम भाव संतान का घर होता है जो संतान सम्बन्धी जानकारी देता है. षष्टम भाव से रोग एवं शत्रुओं के विषय में जाना जाता है. सप्तम भाव से जीवनसाथी और विवाह के बारे में पता चलता है. अष्टम भाव आयु एवं जीवन में आने वाले संकट, दुर्घटना के बारे में बताता है. नवम भाव धर्म, पैतृक सुख एवं भाग्य को दर्शाता है. दशम भाव नौकरी एवं कारोबार में मिलने वाली सफलता और असफलता के बारे में जानकारी देता है. एकादश भाव दूसरी शादी के विषय में फलकथन करता है. द्वादश भाव से व्यय, मोक्ष एवं पुनर्जन्म के विषय में ज्ञान मिलता है.

नाड़ी ज्योतिष में चार अतिरिक्त भाव होते हैं जिनमें तरहवें भाव से पूर्व जन्म के कर्म और उनसे मुक्ति का उपाय जाना जाता है. चौदहवें भाव से शत्रु से बचाव के उपाय एवं उपयुक्त मंत्र जप की जानकारी मिलती है. पंद्रहवें भाव से रोग और उनके उपचार के विषय में ज्ञान मिलता है. सोलहवें भाव से ग्रहों की दशा, अर्न्तदशा, महादशा में मिलने वाले परिणाम का विचार किया जाता है.

Tags

Categories


Please rate this article:

5.00 Ratings. (Rated by 1 people)


Write a Comment

View All Comments

33 Comments

1-10 Write a comment

  1. 18 September, 2017 01:40:29 AM Rashmi tiwari

    I want to abov my previous birth my dob is 10101987

  2. 10 August, 2017 01:39:08 AM prince

    dear sirmy name is prince mehra my D.O.B 15/12/1995 my birth place AGRA UTTAR PARDESH my birht timing is o6:10 pm and my nadi number is 1518

  3. 10 June, 2017 01:00:43 PM Anu

    Sir i want to know the future of my marriage. Please help

  4. 19 October, 2016 01:14:10 AM sunil balkrishna birwadkar

    Respected Sir,My name is sunil balkrishna birwadkar d.o.b. 9th january, 1967 at 10.30 my birth place Alibag (Raigad district, maharashtra).I am suffering from one big problem I am given the money to purchase land, but till date I they are not given the land as well as money. Please inform us what can I do for solve this problem.

  5. 08 September, 2016 02:49:22 AM chetna

    my name is chetna i belong to brahmin family actually , i have a crush over a guy whose name is rohit solanki he belongs to jaat community. my date of birth is 5 march 1995 . rohit solanki's dob is 28 october 1993 . i just want to know that if there are some chances of our( mine and rohit) marriage or not . plss let me know.. i love him so much.

  6. 04 September, 2016 01:52:25 PM Trikal

    Dear SirMy Name is Trikal. My B.O.D 27/09/1995 My birth place Alwar(Rajasthan)I wanna know hwz my future nd which i will go for my future nd how to deal with my problems nd me my future

  7. 03 June, 2016 03:05:47 AM tejendra dewangan

    dear sir,my name is tejendra dewangan my date of birth is 05/01/1997 and place raipur chhattishgarh plz tell me sir what is my futurebecause this time i am face my problem of my life

  8. 19 April, 2016 07:07:27 AM Sandhya gupta

    Dear sir My name is sandhya gupta my d.f.b 31 oct 1983 my birth place bareilly my time 11.20pm plz tell me my future after marriage

  9. 27 March, 2016 03:42:13 PM mayank barotia

    Dear Sir My name is mayank barotia. My d.o.b 15/11/1987 my birth place AJMER Rajasthan my time is :- 6:20pm plzz tell me my future plz sir rpy me

  10. 15 February, 2016 12:47:03 AM Priyanka verma

    My name is Priyanka verma my DOB is 07/10/96 place hamirpur maudaha up time night 9:00 pm on Monday ..... I wanna know hwz my future nd which I will go for my future nd how to deal with my problems and why they came in my lyf .