भाग्य और रत्न (Destiny and Gemstones)



रत्नों में चमत्कारी शक्ति है जो ग्रहों के विपरीत प्रभाव को कम करके ग्रह के बल को बढ़ते है. आइये जानें कि भाग्य को बलवान बनाने के लिए रत्न किस प्रकार धारण करना चाहिए.

रत्नों की शक्ति (Power of Gemstones)
रत्नों में अद्भूत शक्ति होती है. रत्न अगर किसी के भाग्य को आसमन पर पहुंचा सकता है तो किसी को आसमान से ज़मीन पर लाने की क्षमता भी रखता है. रत्न के विपरीत प्रभाव से बचने के लिए सही प्रकर से जांच करवाकर ही रत्न धारण करना चाहिए. ग्रहों की स्थिति के अनुसार रत्न धारण करना चाहिए. रत्न धारण करते समय ग्रहों की दशा एवं अन्तर्दशा का भी ख्याल रखना चाहिए. रत्न पहनते समय मात्रा का ख्याल रखना आवश्यक होता है. अगर मात्रा सही नहीं हो तो फल प्राप्ति में विलम्ब होता है.

लग्न और रत्न (Ascendant And Gemstones)
लग्न स्थान को शरीर कहा गया है. कुण्डली में इस स्थान का अत्यधिक महत्व है. इसी भाव से सम्पूर्ण व्यक्तित्व का विचार किया जाता है. लग्न स्थान और लग्नेश की स्थिति के अनुसार जीवन में सुख दु:ख एवं अन्य ग्रहों का प्रभाव भी देखा जाता है. कुण्डली में षष्टम, अष्टम और द्वादश भाव में लग्नेश का होना अशुभ प्रभाव देता है. इन भावों में लग्नेश की उपस्थिति होने से लग्न कमजोर होता है. लग्नेश के नीच प्रभाव को कम करने के लिए इसका रत्न धारण करना चाहिए.

भाग्य भाव और रत्न (Gemstones and Fortune)
जीवन में भाग्य का बहुत ही महत्वपूर्ण होता है. भाग्य कमज़ोर होने पर जीवन में कदम कदम पर असफलताओं का मुंह देखना पड़ता है. भाग्य मंदा होने पर कर्म का फल भी संतोष जनक नहीं मिल पाता है. परेशानियां और कठिनाईयां सिर उठाए खड़ी रहती है. मुश्किल समय में अपने भी पराए हो जाते हैं. भाग्य का घर जन्मपत्री में नवम भाव होता है. भाग्य भाव और भाग्येश अशुभ स्थिति में होने पर नवमेश से सम्बन्धित रत्न धारण करना चाहिए. भाग्य को बलवान बनाने हेतु भाग्येश के साथ लग्नेश का रत्न धारण करना अत्यंत लाभप्रद होता है.

तृतीय भाव और रत्न (Gemstone for Third house)
जन्म कुण्डली का तीसरा घर पराक्रम का घर कहा जाता है. जीवन में भाग्य का फल प्राप्त करने के लिए पराक्रम का होना आवश्यक होता है. अगर व्यक्ति में साहस और पराक्रम का अभाव हो तो उत्तम भाग्य होने पर भी व्यक्ति उसका लाभ प्राप्त करने से वंचित रह जाता है. आत्मविश्वास का अभाव और अपने अंदर साहस की कमी महसूस होने पर तृतीयेश से सम्बन्धित ग्रह का रत्न पहना लाभप्रद होता है.

कर्म भाव और रत्न (Gemstone for Tenth House)
कर्म से ही भाग्य चमकता है. कहा भी गया है "जैसी करनी वैसी भरनी" ज्योतिष की दष्टि से कहें तो जैसा कर्म हम करते हैं भाग्य फल भी हमें वैसा ही मिलता है. भाग्य को पब्रल बनाने में कर्म का महत्वपूर्ण स्थान होता है. भाग्य भाव उत्तम हो और कर्म भाव पीड़ित तो इस स्थिति भाग्य फल बाधित होता है. कुण्डली में दशम भाव कर्म भाव होता है. अगर कुण्डली में यह भाव पीड़ित हो अथवा इस भाव का स्वामी कमज़ोर हो तो सम्बन्धित भाव स्वामी एवं लग्नेश का रत्न पहनाना मंगलकारी होता है.

रत्न और सावधानी (Gemstone Precautions)
रत्न धारण करते समय कुछ सावधानियों का ख्याल रखना आवश्यक होता है. जिस ग्रह की दशा अन्तर्दशा के समय अशुभ प्रभाव मिल रहा हो उस ग्रह से सम्बन्धित रत्न पहनना शुभ फलदायी नहीं होता है. इस स्थिति में इस ग्रह के मित्र ग्रह का रत्न एवं लग्नेश का रत्न धारण करना लाभप्रद होता है. रत्न की शुद्धता की जांच करवाकर ही धारण करना चाहिए धब्बेदार और दरारों वाले रत्न भी शुभफलदायी नहीं होते हैं.

Tags

Categories


Please rate this article:

5.00 Ratings. (Rated by 1 people)


Write a Comment

View All Comments

28 Comments

1-10 Write a comment

  1. 31 October, 2010 05:33:27 PM kundan kumar

    kundan kumar dob-08-11-1985 time-03:30am place-danapur. mera job kab lagega.

  2. 12 October, 2010 11:16:56 PM Dharmesh Rathod

    Dear sir, Kya me neelum aur panna pahen sakta hu? aur kya isase mery kundli power ful ho gaye gi?

  3. 09 October, 2010 10:19:04 AM gopal sharma

    meri date of birth 12-04-1969 time 5:35 pm and janam sathan delhi hai mera sathananatarn kab hoga. padonati ke liye kaun sa ratan pehnoo

  4. 07 October, 2010 04:19:06 PM sanjyot gondkar

    Dear Guruji, My DOB.is 18-11-1972 at 8.05pm.Please suggest me which stone I have to use

  5. 05 October, 2010 08:51:56 PM maheshwar pathak

    date of birth 23/01/1973, Time - dont know. want to know bhagyodaya ratna please.

  6. 26 September, 2010 11:27:28 AM SONUJAIN

    D O B 20 11 1982 11:45:00 am mujhe kon sa gemstone pahhnna chahiye

  7. 09 September, 2010 03:04:29 PM Tej Raj

    mera janma 07 Feb 1972 me subha 4:15 mei Nepal ke Ruru kshtre me huwa hai, Pandit jee kreepa karke batae mai kya kya ratna pahanu aur mera achha samaya kab aae ga.

  8. 24 August, 2010 11:40:25 AM Sanyog Sahu

    Guriji Pranam Guruji meraDOB-3.05.1989 ke hai, pandiji mai kon sa ratna pahanne seachha ho ou mere career ke bishay me kuchh salah de ki mujhe business ya noukri karu.

  9. 22 August, 2010 06:25:04 AM hemant barjatya

    my date of birth is 01-12-1977 time-13.34pm. place-jaipur . having problems in jobs and health is also not good. please tell me which stone is suitable for me.

  10. 15 August, 2010 09:35:05 PM vijay

    my d/o birth-30-09-1970 time 04:55am b place-jaunpur u.p. hai kya main neelum pehan sakta hoon. pls tell me how will b my financial position & career?a