राजनीति में प्रवेश एवं सफलता के लिये ज्योतिष योग (Astrology Yoga for Career in Politics)



अन्य व्यवसायों एवं कैरियर की भांति ही राजनीति में प्रवेश करने वालों की कुंडली में भी ज्योतिष योग होते हैं. राजनीति में सफल रहे व्यक्तियों की कुंडली में  ग्रहों का विशिष्ट संयोग देखा गया है,

1. आवश्यक भाव : छठा, सांतवा, दसवां व ग्यारहवां घर (Important Houses for Carrer in Politics) 
सफल राजनेताओं की कुण्डली में राहु का संबध छठे, सांतवें, दशवें व ग्यारहवें घर से देखा गया है. कुण्डली के दशवें घर को राजनीति का घर कहते है. सत्ता में भाग लेने के लिये दशमेश या दशम भाव में उच्च का ग्रह बैठा होना चाहिए.

और गुरु नवम में शुभ प्रभाव में स्थिति होने चाहिए. या दशम घर या दशमेश का संबध सप्तम घर से होने पर व्यक्ति राजनीति में सफलता प्राप्त करता है. छठे घर को सेवा का घर कहते है. व्यक्ति में सेवा भाव होने के लिये इस घर से दशम /दशमेश का संबध होना चाहिए.  सांतवा घर दशम से दशम है इसलिये इसे विशेष रुप से देखा जाता है.

2. आवश्यक ग्रह: राहु, शनि, सूर्य व मंगल . (Important Houses: Rahu, Saturn, Sun and Mars) 
राहु को सभी ग्रहों में नीति कारक ग्रह का दर्जा दिया गया है. इसका प्रभाव राजनीति के घर से होना चाहिए. सूर्य को भी राज्य कारक ग्रह की उपाधि दी गई है. सूर्य का दशम घर में स्वराशि या उच्च राशि में होकर स्थित हो व राहु का छठे घर, दसवें घर व ग्यारहवें घर से संबध बने तो यह राजनीति में सफलता दिलाने की संभावना बनाता है. इस योग में दूसरे घर के स्वामी का प्रभाव भी आने से व्यक्ति अच्छा वक्ता बनता है.

शनि दशम भाव में हो या दशमेश से संबध बनाये और इसी दसवें घर में मंगल भी स्थिति हो तो व्यक्ति समाज के  लोगों के हितों के लिये काम करने के लिये राजनीति में आता है. यहां शनि जनता के हितैशी है तथा मंगल व्यक्ति में नेतृ्त्व का गुण दे रहा है. दोनों का संबध व्यक्ति को राजनेता बनने के गुण दे रहा है.

3. अमात्यकारक : राहु/ सूर्य (Amatyakarak Rahu and Sun)
राहु या सूर्य के अमात्यकारक बनने से व्यक्ति रुचि होने पर राजनीति के क्षेत्र में सफलता पाने की संभावना रखता है. राहु के प्रभाव से व्यक्ति नीतियों का निर्माण करना व उन्हें लागू करने की ण्योग्यता रखता है. राहु के प्रभाव से ही व्यक्ति में स्थिति के अनुसार बात करने की योग्यता आती है. सूर्य अमात्यकारक होकर व्यक्ति को समाज में उच्च पद की प्राप्ति का संकेत देता है. नौ ग्रहों में सूर्य को राजा का स्थान दिया गया है.

4. नवाशं व दशमाशं कुण्डली (Navamsha and Dashamasha Kundli)
जन्म कुण्डली के योगों को नवाशं कुण्डली में देख निर्णय की पुष्टि की जाती है. किसी प्रकार का कोई संदेह न रहे इसके लिये जन्म कुण्डली के ग्रह प्रभाव समान या अधिक अच्छे रुप में बनने से इस क्षेत्र में दीर्घावधि की सफलता मिलती है. दशमाशं कुण्डली को सूक्ष्म अध्ययन के लिये देखा जाता है. तीनों में समान या अच्छे योग व्यक्ति को राजनीति की उंचाईयों पर लेकर जाते है.

5. अन्य योग  (Other planets combination)
(1)  नेतृ्त्व के लिये व्यक्ति का लग्न सिंह अच्छा समझा जाता है. सूर्य, चन्द्र, बुध व गुरु धन भाव में हों व छठे भाव में मंगल, ग्यारहवे घर में शनि, बारहवें घर में राहु व छठे घर में केतु हो तो एसे व्यक्ति को राजनीति विरासत में मिलती है. यह योग व्यक्ति को लम्बे समय तक शासन में रखता है. जिसके दौरान उसे लोकप्रियता व वैभव की प्राप्ति होती है.

(ख) कर्क लग्न की कुण्डली में दशमेश मंगल दूसरे भाव में , शनि लग्न में, छठे भाव में राहु, तथा लग्नेश की दृष्टि के साथ ही सूर्य-बुध पंचम या ग्यारहवें घर में हो तो व्यक्ति को यश की प्राप्ति होती.

(ग) वृ्श्चिक लग्न की कुण्डली में लग्नेश बारहवे में गुरु से दृ्ष्ट हो शनि लाभ भाव में हो, राहु -चन्द्र चौथे घर में हो, शुक्र स्वराहि के सप्तम में लग्नेश से दृ्ष्ट हो तथा सूर्य ग्यारहवे घर के स्वामी के साथ युति कर शुभ स्थान में हो और साथ ही गुरु की दशम व दूसरे घर पर दृ्ष्टि हो तो व्यक्ति प्रखर व तेज नेता बनता है.

Tags

Categories


Please rate this article:

5.00 Ratings. (Rated by 1 people)


Write a Comment

View All Comments

0 Comments

1-10 Write a comment

  1. 25 November, 2010 08:49:00 PM deepak sharma

    dear panditji sadar pradam, my b.o.b- 02-10-1984birth place- faridab(hr)birth time- 11:00amme political science se m.a kar raha hu kya me rajniti me jaa sakta hu aur kya me usme safal hounga.

  2. 25 October, 2010 10:48:20 PM mukul sharma

    1st house- surya budh ketu, 2nd house- shukr, 7th house- chander guru mangle rahu, 8th house-shani dob 01-03-80 tob 6:50 am baraut up

  3. 25 October, 2010 10:41:19 PM mukul sharma

    kumbh lagan 1st house-sun budh ketu, 2nd house-shukr seventh house-chander mangle guru rahu, 8th house-shani 01-03-1980 06:50 am baraut up kripya kundli par vichar kare

  4. 16 September, 2010 07:26:43 PM arun

    panditji mera janm 20/10/1968, 18.45pm par hua mai vyapari/rajneta/service in tino mese kya banuga.kyonki abhi tak mai kisi thik raste par nahi pahuch saka.kripya jo thik ho wo rasta bataye.

  5. 14 September, 2010 05:53:34 PM a.k.mishra

    d.o.b.18/10/1964 time 23.00 night place gorakhpur (up),kya politics mesuccesshosaktahupleasemeramargdarshank

  6. 14 September, 2010 10:12:44 AM kantilal

    Astrology Yoga for carrer in politics

  7. 27 August, 2010 12:49:23 PM pradeepkumarupadhyay

    dateof bith 12jun 1975 allahabad.u.p.mepoliticesmesuccesshosaktahupleasemeramargdarshankarekaborkese

  8. 04 July, 2010 05:15:47 AM jagdeep talan

    bhut badiya pandit ji.

  9. 30 June, 2010 03:30:40 PM ghanshyam sharma

    date of birth : 18-09-1986 2:35 am , ( jaipur rajasthan) rajneeti mai mera yoga kitna safal hai.

  10. 25 June, 2010 03:40:09 AM Neera Kumar Vats

    Panditji:Pranam Date of Birth (04.07.1975 on documents) Real date of birth ka pata nahi hai. Place of Birth: Aligarh Vill: Vaina Kya me politices me Success ho sakta hu. Please mera marg darshan kare. Kab or Kese.