घनिष्टा नाडी मुहूर्त (Ghanishtha Nadi Muhurtha)



भार्गव ऋषि के द्वारा बनाई गई मुहूर्तों में से घनिष्ठा नाडी रविवार के दिन खेती से जुडे कार्य नहीं करने चाहिए (Ghanishtha nadi muhurtha on Sunday). इस समय में इस प्रकार के कार्य करने पर खेती में हानि होने की संभावनाएं बनती है. सोमवार के दिन के घनिष्टा नाडी मुहूर्त (Ghanishtha Nadi Muhurtha) में लाँटरी कार्यो से लाभ हो सकता है. मंगलवार कि घनिष्टा की नाडी में व्यक्ति को वाहन के क्रय-विक्रय से संबन्धित कार्य करने चाहिए. इस अवधि में यह कार्य करने पर लाभ होने की संभावनाएं बनती है.

बुधवार कीघनिष्टा नाडी मुहूर्त (Ghanishtha Nadi Muhurtha) समय में शान्ति स्थापित करने के कार्य करना शुभ रहता है. गुरुवार के दिन इस नाडी के समय मे व्यक्ति को प्रतियोगियों या शत्रुओं के विरोध के कार्य नहीं करने चाहिए. इस मुहुर्त में यह कार्य करने पर व्यक्ति को शत्रुओं से पराजय प्राप्त होने की संभावनाएं बनती है.

शुक्रवार की घनिष्टा नाडी के मुहूर्त (Ghanishtha Nadi Muhurtha) को नेतृ्त्व सम्बन्धी कार्य करने के लिये प्रयोग करना हितकारी रहता है (The Ghanishtha Nadi Muhurtha of Friday is favorable for initiative acts). घनिष्ठा नक्षत्र की शनिवार की नाडी समयावधि में दूसरों की प्रशंसा का कार्य करने पर संबन्धों में स्नेह भाव में वृ्द्धि होती है.

Tags

Categories


Please rate this article:

5.00 Ratings. (Rated by 1 people)


Write a Comment

View All Comments