1. Category archives for: हर घंटा-ज्योतिष (Horary)

कुण्डली में जब प्रेम विवाह के विषय में ग्रह स्थिति का विचार किया जाता है तब पांचवें, सातवें और ग्यारहवे भाव तथा इस भाव के स्वामी की स्थिति को भी देखा जाता है. कुण्डली में गुरू की स्थिति से प्रेम का विचार किया जाता है (Jupiter is analysed to...

Posted in हर घंटा-ज्योतिष (Horary) | और पढो »

विवाह के बाद पति पत्नी में उनके व्यवहार और स्वभाव को लेकर बात बहुत आगे बढ़ जाती है.

Posted in हर घंटा-ज्योतिष (Horary) | और पढो »

विवाह कब होगा इस प्रश्न का विचार करने के लिए द्वितीय, सप्तम, तथा एकादश भाव में कौन से ग्रह हैं(The second and the seventh house should be assessed for marriage)

Posted in हर घंटा-ज्योतिष (Horary) | और पढो »

यह जरूरी नहीं है कि हर व्यक्ति को अपनी जन्म तिथि और जन्म समय का ज्ञान हो. अगर जन्म तिथि और जन्म समय का सही ज्ञान नहीं है तो जन्म कुण्डली से कभी भी सही फलादेश की उम्मीद नहीं की जा सकती. वहीं अगर आपको उपरोक्त तथ्यों का ज्ञान है तो जन्म कुण्डल...

Posted in हर घंटा-ज्योतिष (Horary) | और पढो »

द्वादशेश को व्ययेश भी कहते हैं क्योंकि, द्वादश भाव व्यय का घर होता है.किसी भाव में यह शुभ और उत्तम फल देता है तो किसी में अशुभ फल देता है.

Posted in हर घंटा-ज्योतिष (Horary) | और पढो »

प्रतियोगिता एवं वाद के परिणाम के प्रति सभी की उत्सुकता होती है. प्रश्न ज्योतिष (Horary Astrology) के अनुसार प्रतियोगिता एवं वाद के संबन्ध में अंदाज़ा स्वयं लगा सकते हैं.

Posted in हर घंटा-ज्योतिष (Horary) | और पढो »

व्यवसाय का सम्बन्ध जीविका से है. जीविका के लिए व्यक्ति व्यापार करता है या नौकरी. इसका स्तर छोटा भी हो सकता है और बड़ा भी. इसमें पदोन्नति भी होती है और स्थानांतरण भी. प्रश्न कुण्डली रोजगार और व्यवसाय से सम्बन्धित सभी पहलूओं का उत्तर देने में...

Posted in हर घंटा-ज्योतिष (Horary) | और पढो »

षोडष वर्ग में नवमांश का विशेष महत्व है जो कई महत्वपूर्ण विषयों पर रोशनी डालता है। जन्म कुण्डली वास्तव में कुण्डली का शरीर है जिसकी आत्मा षोडष वर्ग में बसती है।

Posted in हर घंटा-ज्योतिष (Horary) | और पढो »