1. Category archives for: मुहूर्त (Muhurta)

रविवार के दिन मूळ नाडी मुहूर्त में धन लाभ से जुडे कार्य किये जा सकते है. इस मुहूर्त समय में शुभ कार्य करने पर आय में वृ्द्धि होती है.

Posted in मुहूर्त (Muhurta) | और पढो »

ज्येष्ठा नाडी (Jyeshtha Nadi) समय में रविवार के दिन मुहूर्त कार्य करने पर कलह होने कि संभावनाएं बनती है.

Posted in मुहूर्त (Muhurta) | और पढो »

चित्रा नाडी अवधि रविवार के दिन नया व्यापार आरम्भ करना चाहिए. इस मुहूर्त की शुभता से व्यापारिक लाभ प्राप्त होने की सम्भावनाएं बनती है.

Posted in मुहूर्त (Muhurta) | और पढो »

भार्गव नाडी मुहूर्त का निर्माण ऋषि भार्गव ने किया है. मुहूर्त की यह प्रणाली नक्षत्रों की नाडी मुहूर्त के नाम से भी जानी जाती है.

Posted in मुहूर्त (Muhurta) | और पढो »

नाडी मुहूर्त भार्गव ऋषि के द्वारा बनाई गई प्रणाली है. इस का आधार नाडी है. नाडी से अभिप्राय 24 मिनट का समय होता हे.

Posted in मुहूर्त (Muhurta) | और पढो »

नाडी मुहूर्त प्रणाली नक्षत्र आधारित महूर्त प्रणाली पर आधारित है. इस प्रणाली में सूर्योदय से लेकर सूर्यास्त के मध्य के समय को एक समान 30 घटियों में बांटा जाता है(Saint Bhargava divided time between Sunrise to Sunset into 30 Ghatis).

Posted in मुहूर्त (Muhurta) | और पढो »

नाडी मुहूर्त प्रणाली नक्षत्र आधारित महूर्त प्रणाली पर आधारित है. इस प्रणाली में सूर्योदय से लेकर सूर्यास्त के मध्य के समय को एक समान 30 घटियों में बांटा जाता है.

Posted in मुहूर्त (Muhurta) | और पढो »

ऋषि भार्गव ने मुहूर्त को बेहद सरल बना दिया है. इससे पहले किसी भी कार्य के लिये मुहूर्त समय निर्धारित करना बेहद मुश्किल होता था.

Posted in मुहूर्त (Muhurta) | और पढो »

भार्गव नाडी मुहूर्त निकालने के लिये सुबह सूर्योदय से सूर्यास्त तक के समय को कुल 60 घटियों में बांटा जाता है.

Posted in मुहूर्त (Muhurta) | और पढो »

नाडी मुहूर्त भार्गव ऋषि के द्वारा बनाई गई प्रणाली है. इस का आधार नाडी है. नाडी से अभिप्राय 24 मिनट का समय होता हे.

Posted in मुहूर्त (Muhurta) | और पढो »

तेजी से भागते, बदलते समय ने ज्योतिष के मूहुर्त को भी बदल के रख दिया है. आज झटपट मूहुर्त का चलन है. मूहुर्तों की इसी श्रेणी में चौघडिया मूहुर्त (Chaughadia muhurtas) का नाम आता है. इस मूहुर्त को गुजरात व भारत के पश्चिमी क्षेत्रों में अधिक प्...

Posted in मुहूर्त (Muhurta) | और पढो »

मुहूर्त (muhurat) वैदिक ज्योतिष (Vedic astrology) का महत्वपूर्ण अंग है। यह समय विशेष में कार्य की शुभता और अशुभता की जानकारी देता है। अगर आप अपने कार्य को सफलता प्राप्त करना चाहते हैं तो मुहूर्त में लग्न का विचार करके कार्य शुरू करें। तुला ...

Posted in मुहूर्त (Muhurta) | और पढो »

मुहू्र्त यानी किसी कार्य विशेष के लिए शुभ और अशुभ समय.ज्योतिषशास्त्र की गणितीय विधि में शुभ मुहूर्त के लिए कई विशिष्ट योगों का जिक्र किया गया है.

Posted in मुहूर्त (Muhurta) | और पढो »