1. Category archives for: ज्योतिष योग (Astrology Yoga)

तमिलनाडु में प्रचलित पंच-पक्षी ज्योतिष पद्वति (Panch-pakshi Shastram) अपने आप में अनेक पद्वतियों की विशेषताओं को अपने में समाहित किये हुये है.

Posted in ज्योतिष योग (Astrology Yoga) | और पढो »

मीन लग्न का स्वामी गुरू होता है. इस लग्न में चन्द्र, मंगल और गुरू कारक ग्रह होते हैं. सूर्य, बुध, शुक्र एवं शनि इस लग्न में अकारक ग्रह बनकर मंदा फल देते हैं.

Posted in ज्योतिष योग (Astrology Yoga) | और पढो »

कुम्भ लग्न का स्वामी शनि है. इस लग्न में सूर्य, शुक्र एवं शनि शुभ कारक ग्रह होते हैं. चन्द्रमा, मंगल, बुध एवं गुरू अशुभ और अकारक ग्रह होते हैं.

Posted in ज्योतिष योग (Astrology Yoga) | और पढो »

मकर लग्न में जिस व्यक्ति का जन्म होता है वे दुबले पतले होते हैं. समान्यतया इनकी शादी विलम्ब से होती है. इन्हें नियम और अनुशासन पर चलना पसंद होता है.

Posted in ज्योतिष योग (Astrology Yoga) | और पढो »

धनु लग्न का स्वामी गुरू है (Jupiter is the lord of Sagittarius Rashi). इस लग्न में जिनका जन्म होता है वे मानवीय गुणों से परिपूर्ण होते हैं.

Posted in ज्योतिष योग (Astrology Yoga) | और पढो »

वृश्चिक लग्न की कुण्डली में सूर्य दशमेश होने से कारक ग्रह होता है (Sun becomes a Karak by becoming the lord of the tenth house).मंगल की राशि में लग्नस्थ होकर सूर्य व्यक्ति को आत्मबल प्रदान करता है.

Posted in ज्योतिष योग (Astrology Yoga) | और पढो »

तुला लग्न का स्वामी शुक्र है.इस लग्न में जन्म लेने वाले व्यक्ति दिखने में सुन्दर होते हैं.ये सत्यवादी और अनुशासनप्रिय होते हैं.इनमें परोपकारिता की भावना रहती है.गृहस्थ जीवन भी आमतौर पर खुशहाल होता है.

Posted in ज्योतिष योग (Astrology Yoga) | और पढो »

बुध कन्या राशि का स्वामी है. इस लग्न में जन्म लेने वाला व्यक्ति बुद्धिमान, विवेकशील और व्यवसाय में निपुण होता है.

Posted in ज्योतिष योग (Astrology Yoga) | और पढो »

जिस व्यक्ति का जन्म सिंह लग्न में होता है वे दिखने में सुन्दर और हृष्ट पुष्ट होते है.ये महत्वाकांक्षी और हठीले स्वभाव के होते हैं.

Posted in ज्योतिष योग (Astrology Yoga) | और पढो »

राशि चक्र की तीसरी राशि मिथुन है.आपकी कुण्डली के लग्न भाव में यह राशि है तो आपका लग्न मिथुन कहलता है.

Posted in ज्योतिष योग (Astrology Yoga) | और पढो »

कर्क लग्न का स्वामी चन्द्रमा है.अगर आपका लग्न भी कर्क है तो आप घूमने के शौकीन होंगे.आपकी कल्पनाशीलता और स्मरण क्षमता अच्छी होगी.आप में निरन्तर प्रगति की ओर बढ़ने की इच्छा होगी.

Posted in ज्योतिष योग (Astrology Yoga) | और पढो »

राशि चक्र की दूसरी राशि वृष है.आपकी कुण्डली के लग्न भाव में यह राशि है तो आपका लग्न वृष कहलता है.आपके लग्न के साथ प्रथम भाव में जो भी ग्रह बैठता है वह आपके लग्न को प्रभावित करता है.आपके जीवन में जो कुछ भी हो रहा है वह कहीं लग्न में बैठे हुए...

Posted in ज्योतिष योग (Astrology Yoga) | और पढो »

मेष लग्न का स्वामी मंगल है.इस लग्न में मंगल लग्नेश और अष्टमेश होता है.गुरू, सूर्य, चन्द्र इस लग्न में कारक ग्रह की भूमिका निभाते हैं (Jupiter, Sun, Moon are the Karakas for this Lagna).

Posted in ज्योतिष योग (Astrology Yoga) | और पढो »