1. Category archives for: ज्योतिष योग (Astrology Yoga)

कुण्डली का विश्लेषण करते समय ग्रहों के योग पर विशेष रूप से विचार करना चाहिए.ज्योतिषीय विधा के अनुसार जब कोई ग्रह किसी भाव में स्वतंत्र होते हैं तो उनका फल अलग होता है जबकि किसी ग्रह के साथ योग करते हैं तो इनका फल परिवर्तित हो जाता है.

Posted in ज्योतिष योग (Astrology Yoga) | और पढो »

सभी ग्रहो के तीन तीन नक्षत्र होते हैं.गोचर में ग्रह जिस नक्षत्र में होता है उस नक्षत्र के अनुसार इनका फल भी परिवर्तित होता है.

Posted in ज्योतिष योग (Astrology Yoga) | और पढो »

मेष राशि का स्वामी मंगल है. जन्मपत्री के दशम भाव में मेष राशि है तो आपको साहसिक कार्यों में सफलता आसनी से मिलती है.

Posted in ज्योतिष योग (Astrology Yoga) | और पढो »

प्रियंका गांधी का जन्म राजनीति में लिप्त परिवार में हुआ है इस पारिवारिक माहौल का प्रभाव प्रियंका गांधी के व्यक्तित्व पर भी हुआ है लेकिन ज्योतिष की नज़र से राजनीति की दुनियां में आगे प्रियंका गांधी का क्या स्थिति है आइये देखें.

Posted in ज्योतिष योग (Astrology Yoga) | और पढो »

सिंधियावंश का राजनैतिक प्रभुत्व केंद्रीय सत्ता बदलने से भी सदा अपरिवर्तित रहा है. मुगल शासन हो या अंग्रेजों का शासन सिंधिया राजघराना शासन ही करता रहा.

Posted in ज्योतिष योग (Astrology Yoga) | और पढो »

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार कुण्डली के बारह घरों में नवग्रहों की स्थिति को देखकर व्यक्ति की हर प्रकार की उत्सुकता को शांत किय जा सकता है.

Posted in ज्योतिष योग (Astrology Yoga) | और पढो »

ज्योतिषशास्त्र की दृष्टि से देखा जाए तो जीवन की हर छोटी बड़ी घटना ग्रहों से प्रभावित होती है.स्वास्थ्य सम्बन्धी परेशानियों एवं रोग का कारण भी ग्रह हैं.

Posted in ज्योतिष योग (Astrology Yoga) | और पढो »

नवमांश कुण्डली (Navamsha Kundli) से जीवन के लगभग सभी प्रश्नों का उत्तर ज्ञात किया जा सकता है।

Posted in ज्योतिष योग (Astrology Yoga) | और पढो »