1. Category archives for: रत्न (Gemstone)

रत्न में करिश्माई शक्तियां होती है.रत्न अगर सही समय में और ग्रहों की सही स्थिति को देखकर धारण किये जाएं तो इनका सकारात्मक प्रभाव प्राप्त होता है अन्यथा रत्न विपरीत प्रभाव भी देते हैं.ग्रहों के समान रत्नों में भी आपसी विद्वेष होता है अत: किस...

Posted in रत्न (Gemstone) | और पढो »

ज्योतिषशास्त्र नवग्रहों की चाल का आंकल करके भविष्य होने वाली घटनाओं का लेखा जोखा देता है.

Posted in रत्न (Gemstone) | और पढो »

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार हमारे शरीर का सभी अंगों पर अलग अलग ग्रहों का प्रभाव होता है.जब ग्रह कमज़ोर अथवा पीड़ित होते हैं तो सम्बन्धित अंग पर विपरीत प्रभाव डालते हैं परिणाम स्वरूप हम बीमार होते हैं.

Posted in रत्न (Gemstone) | और पढो »

भौतिक जगत में रोग का कारण कुछ भी हो लेकिन ज्योतिषीय मत के अनुसार रोग का कारण हमारी कुण्डली में स्थित ग्रह हैं। ग्रहों की स्थिति के अनुसार ही हम समय समय पर रोग से पीड़ित होते हैं।

Posted in रत्न (Gemstone) | और पढो »

रत्नों में चमत्कारी शक्ति है जो ग्रहों के विपरीत प्रभाव को कम करके ग्रह के बल को बढ़ते है. आइये जानें कि भाग्य को बलवान बनाने के लिए रत्न किस प्रकार धारण करना चाहिए.

Posted in रत्न (Gemstone) | और पढो »

जीवन में आ रही परेशानियों का हल निकालने के लिए हम ज्योतिषशास्त्रियों की सलाह से रत्न धारण करते हैं.

Posted in रत्न (Gemstone) | और पढो »

ग्रहों के गुरू हैं बृहस्पति. पीत रंग बृहस्पति का प्रिय है.इनका रत्न पुखराज (Yellow Sapphire - Pukhraj) भी पीली आभा लिये होता है.व्यक्ति की कुण्डली में गुरू अगर शुभ भावों का स्वामी हो अथवा मजबूत स्थिति में हो तो पुखराज (Pukhraj Gemstone) धार...

Posted in रत्न (Gemstone) | और पढो »

जो भी व्यक्ति जन्म लेता है उसका अपना एक लग्न (ascendant) होता है. सभी लग्न एक राशि है जिनका अपना एक स्वामी होता है. ज्योतिषशास्त्र का मानना है कि व्यक्ति अगर अपनी राशि के अनुरूप उपयुक्त रत्न (gem according to birth sign) धारण करता है तो ...

Posted in रत्न (Gemstone) | और पढो »

प्राचीन काल से रोगों के उपचार हेतु रत्नों का प्रयोग विभिन्न रूपों में किया जाता रहा है.रत्नों में चुम्बकीय शक्ति होती है जिससे वह ग्रहों की रश्मियों एवं उर्जा को अवशोषित कर लेती है (Gems have therapeutic value due to their innate power).

Posted in रत्न (Gemstone) | और पढो »

राहु के समान छाया गया केतु होता है. केतु हमेशा वक्री रहता है. मंदा केतु दुर्घटना एवं रोग देता है जिससे शल्य चिकित्सा की भी संभावना बनती है.

Posted in रत्न (Gemstone) | और पढो »

खूबसूरत पत्थर होते हैं जिनमें काफी घनत्व होता है.ये विभिन्न रंगों में पाये जाते हैं.अपने गुणों एवं चमत्कारी प्रभाव के कारण ये रत्न कहलाते हैं.

Posted in रत्न (Gemstone) | और पढो »

नवग्रह रत्न सिर्फ सौन्दर्य वर्द्धक ही नहीं होते हैं बल्कि इनमें ज्योतिषीय शक्तियां भी होती है. ये ग्रहों से उनकी उर्जा को अवशोषित करते हैं

Posted in रत्न (Gemstone) | और पढो »