1. Category archives for: उपचार (Remedies)

नक्षत्रों से बनने वाले अशुभ योगों में जन्म लेने या फिर नक्षत्रों का अशुभ प्रभाव दूर करने के लिये नक्षत्रों की शान्ति के उपाय किये जाते है.

Posted in उपचार (Remedies) | और पढो »

नक्षत्रों से बनने वाले अशुभ योगों में जन्म लेने या फिर नक्षत्रों का अशुभ प्रभाव दूर करने के लिये नक्षत्रों की शान्ति के उपाय किये जाते है.

Posted in उपचार (Remedies) | और पढो »

सूर्य नवग्रहों का राजा है. यह कुण्डली में बली हो तो व्यक्ति राजकीय सम्मान प्राप्त करता है. मान सम्मान यश और प्रतिष्ठा प्राप्त होती है.

Posted in उपचार (Remedies) | और पढो »

ग्रहों के मंदे या सोया हुआ प्रभाव को कम करके नेक फल प्राप्त करने से सम्बन्धित जो उपाय बताए जाते हैं उनमें लाल किताब के उपाय सबसे आसान और सुविधा जनक है

Posted in उपचार (Remedies) | और पढो »

भवन निर्माण को शुभ माना गया है. इसके लिए एक विशेषशास्त्र लिखा गया है जिसे वास्तुशास्त्र कहा गया है.

Posted in उपचार (Remedies) | और पढो »

एक आशियाना हो अपना हर किसी का रहता है सपना.आशियाना हो या कोई भी अन्य भवन इनके निर्माण के लिए हमारे ऋषि मुनियों ने एक विशेष शास्त्र का निर्माण किया जिसे वास्तुशास्त्र के नाम से जाना जाता है.वास्तुशास्त्र में दिशाओं का खास महत्व होता है.

Posted in उपचार (Remedies) | और पढो »

भौतिक जगत में रोग का कारण कुछ भी हो लेकिन ज्योतिषीय मत के अनुसार रोग का कारण हमारी कुण्डली में स्थित ग्रह हैं। ग्रहों की स्थिति के अनुसार ही हम समय समय पर रोग से पीड़ित होते हैं।

Posted in उपचार (Remedies) | और पढो »

समय के दो पहलू है. पहले प्रकार का समय व्यक्ति को ठीक समय पर काम करने के लिये प्रेरित करता है.

Posted in उपचार (Remedies) | और पढो »

सूर्य को पिता माना जाता है. राहु छाया ग्रह है (Rahu is a shadow planet). जब यह सूर्य के साथ युति (combination of Rahu and Sun) करता है तो सूर्य को ग्रहण लगता है इसी प्रकार जब कुण्डली में सूर्य चन्द्र और राहु मिलकर किसी भाव में युति बनाते है...

Posted in उपचार (Remedies) | और पढो »

मंगल की स्थिति से रोजी रोजगार एवं कारोबार मे उन्नति एवं प्रगति होती है तो दूसरी ओर इसकी उपस्थिति वैवाहिक जीवन के सुख बाधा डालती है. वैवाहिक जीवन में शनि को विशेष अमंलकारी माना गया है. कुछ स्थितियों में इसका दोष स्वत: दूर हो जाता है अन्यथा इ...

Posted in उपचार (Remedies) | और पढो »

सभी ग्रहों की अपनी शक्ति है और वे क्षेत्र विशेष के स्वामी हैं. हमारी कुण्डली में जो ग्रह कमज़ोर होते हैं अथवा नीच या पीड़ित होते हैं उनसे हमें कष्ट मिलता है.

Posted in उपचार (Remedies) | और पढो »

ग्रहों के अशुभ स्थिति में होने पर उनका उपाय किया जाता है. ग्रहों के उपचार के लिए कई तरीके ज्योतिषशास्त्र में दिये गये हैं जिनके अनुसार राहु, केतु एवं कालसर्प दोष के कुछ विशेष उपाय हैं जिन्हें आप आज़मा सकते हैं.

Posted in उपचार (Remedies) | और पढो »

ज्योतिषशास्त्र कहता है कि हमारे जीवन पर ग्रहों का सीधा प्रभाव होता है. ग्रह अगर हमारी कुण्डली में कमज़ोर अथवा नीच स्थिति में हैं तो वह हमारे जीवन पर विपरीत प्रभाव डालते रहते हैं.

Posted in उपचार (Remedies) | और पढो »