Home | वैवाहिक | शुभ और अशुभ भकूट (Auspicious Bhakoot & malefic Bhakoot in Marriage Compatibility)

शुभ और अशुभ भकूट (Auspicious Bhakoot & malefic Bhakoot in Marriage Compatibility)

Font size: Decrease font Enlarge font
image Auspicious Bhakoot & malefic Bhakoot

ज्योतिष के अनुसार वर और कन्या की कुण्डली मिलायी जाती है। कुण्डली मिलान से पता चलता है कि वर कन्या की कुण्डली मे कितने गुण मिलते हैं, कुल 36 गुणों में से 18 से अधिक गुण मिलने पर यह आशा की जाती है कि वर वधू का जीवन खुशहाल और प्रेमपूर्ण रहेगा.

भकूट का तात्पर्य वर एवं वधू की राशियों के अन्तर से है। यह 6 प्रकार का होता है जो क्रमश: इस प्रकार है:-

कुण्डली में गुण मिलान के लिए अष्टकूट(Ashtkoot) से विचार किया जाता है इन अष्टकूटों में एक है भकूट (Bhakoot)। भकूट अष्टकूटो में 7 वां है,भकूट निम्न प्रकार के होते हैं.

1. प्रथम - सप्तक 2. द्वितीय - द्वादश 3. तृतीय - एकादश 4. चतुर्थ - दशम 5. पंचम - नवम 6. षडष्टक

ज्योतिष के अनुसार निम्न भकूट अशुभ (Malefic Bhakoota) हैं.

  • द्विर्द्वादश,(Dwirdadasha or Dwitiya Dwadash Bhakoot)
  • नवपंचक (Navpanchak Bhakoota) एवं
  • षडष्टक (Shadashtak Bhakoota)

शेष निम्न तीन भकूट शुभ  (Benefic Bhakoota) हैं. इनके रहने पर भकूट दोष (Bhakoot Dosha) माना जाता है.

  • प्रथम-सप्तक,(Prathap Saptak Bhakoota)
  • तृतीय-एकादश (Tritiya Ekadash Bhakoot)
  • चतुर्थ-दशम  (Chaturth Dasham Bhakoot)

भकूट जानने के लिए वर की राशि से कन्या की राशि तक तथा कन्या की राशि से वर की राशि तक गणना करनी चाहिए। यदि दोनों की राशि आपस में एक दूसरे से द्वितीय एवं द्वादश भाव में पड़ती हो तो द्विर्द्वादश भकूट होता है। वर कन्या की राशि परस्पर पांचवी व नवी में पड़ती है तो नव-पंचम भकूट होता है, इस क्रम में अगर वर-कन्या की राशियां परस्पर छठे एवं आठवें स्थान पर पड़ती हों तो षडष्टक भकूट बनता है। नक्षत्र मेलापक में द्विर्द्वादश, नव-पंचक एवं षडष्टक ये तीनों भकूट अशुभ माने गये हैं। द्विर्द्वादश को अशुभ की इसलिए कहा गया है क्योंकि द्सरा स्थान(12th place) धन का होता है और बारहवां स्थान व्यय का होता है, इस स्थिति के होने पर अगर शादी की जाती है तो पारिवारिक जीवन में अधिक खर्च होता है।

नवपंचक (Navpanchak) भकूट को अशुभ कहने का कारण यह है कि जब राशियां परस्पर पांचवें तथा नवमें स्थान (Fifth and Nineth place) पर होती हैं तो धार्मिक भावना, तप-त्याग, दार्शनिक दृष्टि तथा अहं की भावना जागृत होती है जो दाम्पत्य जीवन में विरक्ति तथा संतान के सम्बन्ध में हानि देती है। षडष्टक भकूट को महादोष की श्रेणी में रखा गया है क्योंकि कुण्डली में 6ठां एवं आठवां स्थान(Sixth and Eighth Place) मृत्यु का माना जाता हैं। इस स्थिति के होने पर अगर शादी की जाती है तब दाम्पत्य जीवन में मतभेद, विवाद एवं कलह ही स्थिति बनी रहती है जिसके परिणामस्वरूप अलगाव, हत्या एवं आत्महत्या की घटनाएं भी घटित होती हैं। मेलापक के अनुसार षडष्टक में वैवाहिक सम्बन्ध नहीं होना चाहिए।

शेष तीन भकूट- प्रथम-सप्तम, तृतीय - एकादश तथा चतुर्थ -दशम शुभ होते हैं।  शुभ भकूट (Auspicious Bhakoot) का फल निम्न हैं

  • मेलापक में राशि अगर प्रथम-सप्तम हो तो शादी के पश्चात पति पत्नी दोनों का जीवन सुखमय होता है और उन्हे उत्तम संतान की प्राप्ति होती है।
  • वर कन्या का परस्पर तृतीय-एकादश भकूट हों तो उनकी आर्थिक अच्छी रहती है एवं परिवार में समृद्धि रहती है,
  • जब वर कन्या का परस्पर चतुर्थ-दशम भकूट हो तो शादी के बाद पति पत्नी के बीच आपसी लगाव एवं प्रेम बना रहता है।


इन स्थितियों में भकूट दोष नहीं लगता है:

  • 1. यदि वर-वधू दोनों के राशीश आपस में मित्र हों।
  • 2. यदि दोनों के राशीश एक हों।
  • 3. यदि दोनों के नवमांशेश आपस में मित्र हों।
  • 4. यदि दोनों के नवमांशेश एक हो।


आपके कुंडली मिलान में भकूट की क्या स्थिति है, यह जानने के लिये आप http://astrobix.com/marriage/matchscore/ पर जाकर अपनी कुंडली मिलान मुफ्त प्राप्त कर सकते हैं एवं  विवाह मिलान पर विस्तृत रिपोर्ट आनलाइन रु.99 देकर http://astrobix.com से प्राप्त कर सकते हैं       

Comments (14 posted):

Rajni on 26 April, 2009 07:46:25
avatar
Bhakut per yeh article bhut impressive laga. per hume yeh kaise pata lagege ki bride aur groon ki rashi mitra hain ki nahi.kya bhakut ko nakshtra ki position se bhi dekha jata hain? yeh maine ek web site per dekha. please clarify my doubt.
on 12 August, 2009 06:04:22
avatar
Rajni, you can check your bhakoot from http://astrobix.com
jeetu sharma on 22 September, 2009 06:17:37
avatar
me apni aage ki zindgi ke bare me janana chahta hu
Niraj Chowdhury on 27 November, 2009 07:16:43
avatar
Kya meri saadi meri pasand wali larki se ho payagi jise mai bahut pyaar karta hu
D.O.B. 23-05-1985, Time 7:10pm, Place Kolkata
Lakshmi Ray on 27 November, 2009 07:43:56
avatar
Kya meri love marriage hogi mai ek larke se pyaar karti hu aur uske saath saadi karni chahti hu. meri D.O.B.- 08-03-1985, Time- 8:15pm,Day- Friday, Place- Kolkata
pallavi on 29 November, 2009 09:55:48
avatar
meri marriage kab hone ka yog hai ?husband kaisa milega? meri d.o.b.- 5 december1982,time-11:16:25a.m.,day-sunday, place-gwalior.
Nemji on 05 December, 2009 03:55:20
avatar
Please give the Remedy for malefic Bhakoot
Neeraj on 15 January, 2010 06:08:46
avatar
Hey !!! I wish to know if I have 26 milan gun with a girl but "0 in bhakoot" & the milan says "navpanchak dosha" is there ... should i go ahead or look for another girl as this is also arrange marriage proposal!!!
kavita on 17 May, 2010 05:51:50
avatar
me apni aage ki zindgi ke bare me janana chahta hu
vishal santaram sonawane on 08 July, 2010 12:44:55
avatar
me apni aage ki zindgi ke bare me janana chahta hu
ruchika on 29 September, 2010 02:26:26
avatar
mai apnehusband se dukhi hu koi rai de wo mujhepyaarnahi karte
deepti Aloria on 16 October, 2010 02:37:39
avatar
mein apni love marriage ke bare mein puchna chati hu hogi ya nahi

mera Nam
Deepti aloria
07/02/1984
Time 10.20 Mong
Father-Name-Rajendar Kumar Aloria
Mother-Shakuntala Aloria

Mere patnar ka nam

Ashish Gupta
07/12/1983
Father-Name-Ghanshyam Dass Gupta
Mother-Saroj Gupta

Mujhe Meri Shadi Paday Job Or Mere Bhavishe ke Bare Me Puchna H Pessa
Shaddi ke Bad Kesa rahega ham dono ka
wese to jada tar ladai rehi h

mujhe age kya ,karna cyhhiye
bataiye

thanks regarge

Plz replay


Ham Dono Ka Janam New He.

Mujhe Merri Paday Job Marrige
ajay singh on 23 October, 2010 03:23:11
avatar
mari wife aur me manglik hai. hamara bhkut yog nahi milta hai. shadi ke baad koi tarika ya oopaye bataye.
on 14 November, 2010 11:46:11
avatar
DEAR sir MERA NAAM RAJESH(D.O.B 14-05-1978.) OR MERE PARTNAR KA NAAM REKHA HAI KUMAR HAI(D.O.B 26-04-1991), MERI SHADI NOV. 2010 ME HAI. LEKIN ABHI KOI TAREEKH NAHI RAKHI. SO PLZ AAP MUJE SHADI KE LIA SHUBH MAHURAT NIKAL KAR MUJE MAIL KARE. MAIL ADD:- rajesh.kamboj@ymail.com

THANKYOU

Post your comment comment

Please enter the code you see in the image: