Home | प्रश्न ज्योतिष | प्रेम की गिनती प्रश्न कुण्डली से! (Calculate your love through Prashna Kundli)

प्रेम की गिनती प्रश्न कुण्डली से! (Calculate your love through Prashna Kundli)

Font size: Decrease font Enlarge font
image प्रेम की गिनती प्रश्न कुण्डली से! (Prashnakundli on Love)

प्रेम के विषय में कहा गया है कि "प्रेम न तो राजा देखता है और ना रंक यह किसी को भी किसी भी उम्र में अपनी आगोश में ले सकता है"। अगर आप भी किसी से प्रेम करते हैं तो प्रश्न कुण्डल से जान सकते हें कि आपका प्यार कितना मजबूत और कितना सच्चा है।

प्रेम में ऐसी शक्ति होती है जो इंसान को फरिश्ता बना देती है राधा कृष्ण, लैला मजनू, हीर रांझा, रोमियो जूलियट का नाम इन्हीं श्रेणियों में आता है.हर व्यक्ति चाहता है कि प्रेम उसे चुन ले और उसकी मुहब्बत यादगार बन जाए लेकिन यह नैमत हर किसी को नसीब नहीं होती है.
ज्योतिर्विदों की मानें तो प्रेम के लिए कुण्डली में अनुकूल ग्रह (Auspicious Planet) स्थिति का होना बहुत ही आवश्यक है.अगर आप अपने जीवन में प्रेम की स्थिति का आंकलन करना चाहते हैं तो प्रश्न कुण्डली की सहायता (Help of prashna kundli for love) ले सकते हैं.प्रश्न कुण्डली किस प्रकार से प्रेम की स्थिति (Status of love through prashna kundli) का ज्ञान देती है इसकी विवेचना प्रस्तुत है.

ज्योतिष शास्त्री के अनुसार प्रश्न कुण्डली में स्त्री और पुरूष के लिए पंचम भाव (Fift house) से विचार किया जाता है परंतु, दोनों के प्रेम सम्बन्धी कारक ग्रह अलग अलग होते हैं (There are different kinds of planets regarding love).

इन तथ्यों को समझने के लिए आप इस उदाहरण पर गौर कर सकते हैं.आप पुरूष हैं और अपने जीवन में प्रेम की स्थिति को जानना चाहते हैं तो इसके लिए सबसे पहले पंचम भाव एवं पंचमेश (Lord of fifth house) की स्थिति का आंकलन किया जाता है, फिर लड़के के प्रेम सम्बन्ध के कारक ग्रह चन्द्रमा एवं शु्क्र (Moon and Venus are the significator of love) से विचार किया जाता है.

इसी प्रकार आप लड़की हैं तो आपके जीवन में प्रेम की स्थिति का आंकलन करने के लिए पंचम भाव एवं पंचमेश का लग्न व लग्नेश (Ascendant and Lord of ascendant) के साथ सम्बन्ध को देखा जाता है साथ ही लड़की के लिए प्रेम सम्बन्धों के कारक ग्रह चन्द्र एवं बृहस्पति (Jupiter and Moon) से विचार किया जाता है.

प्रेम सम्बन्ध में प्रगाढ़ता और सुख की स्थिति तब बनती है जबकि कुण्डली में उपरोक्त भाव एवं ग्रह बलवान अथवा शुभ स्थिति में हों व इनका लग्न/लग्नेश के साथ युति या दृष्टि द्वारा सम्बन्ध स्थापित होता हो.यदि स्थिति इसके विपरीत हो अर्थात उपरोक्त भाव एवं ग्रह कमजोर (Debilitated planets) स्थिति में हों तथा उनका लग्न/लग्नेश से किसी भी प्रकार सम्बन्ध स्थापित ना हो तो प्रेम असफल होता है या आपको प्रेम की प्राप्ति नहीं होती है.

आप जानना चाहते हैं कि क्या आपका प्यार सफल हो पाएगा और आप दोनों जीवन भर के लिए एक दूजे के हो जाएंगे अर्थात आपका प्रेम विवाह हो पाएगा तब चन्द्रमा, बृहस्पति एवं शुक्र के साथ ही मंगल ग्रह की शक्ति (Strength of Mars with Moon, Jupiter and Venus) का भी आंकलन किया जाता है.

इस तथ्य के अनुसार अगर कुण्डली में ये ग्रह शुभ स्थिति में हों या बलवान हों तो आप अपने प्रेमी के साथ परिणय सूत्र मे बंध पाते हैं और ग्रह स्थिति इसके प्रतिकूल हो तो प्रेम की डोर परिणय सूत्र में परिणत होने से पूर्व ही टूट जाती है.

ज्योतिष शास्त्रियों के मतानुसार प्रेम सम्बन्ध में असफलता के लिए सूर्य, शनि एवं राहु इन तीन ग्रहों की स्थिति (Placement of Sun, Saturn and Rahu) पर विशेष रूप से ध्यान देना होता है.प्रश्न कुण्डली में पंचम/पंचमेश तथा चन्द्र, बृहस्पति या शुक्र किसी भी प्रकार युति (Combination of Moon, Jupiter and Venus) या दृष्टि द्वारा सूर्य, शनि एवं राहु से पीड़ित हो तो परिणाम नकारात्मक होता है.प्रेम सम्बन्ध के विषय में शनि ग्रह(Saturn is very dangerous in respect of love) को काफी खतरनाक माना गया है, शनि प्रेम की सफलता में बाधा डालने का कार्य करता है.

ज्योतिर्विद कहते हैं कि जब प्रेम के विषय में फलादेश (Prediction of love) किया जाता है तब ग्रहों की स्थिति का आंकलन बहुत ही सावधानी से किया जाता है क्योंकि प्रेम है ही बहु नाजुक विषय, जरा सी चूक भी दिलों को आहत कर सकती है.

नोट: आप कम्पयूटर द्वारा स्वयं प्रश्न कुण्डली का निर्माण कर  सकते हैं। इसके लिऎ आप  प्रश्न कुण्डली एक्सप्लोरर का इस्तेमाल करे।  आप इसका 45 दिन तक   इसका मुफ्त उपयोग कर सकते हैं । कीमत 650रु.  जानकारी के लिये यहाँ क्लिक करे

Comments (11 posted):

rkbhatt30@yahoo.in on 31 December, 2008 05:50:26
avatar
my some quetion answer
gurpreet on 17 August, 2009 10:03:14
avatar
meri love marriage hogi ya nahin
Romit Anand on 25 December, 2009 07:29:07
avatar
mera DOB 15-12-1984 hai aur mujhey saadi say pahley love milega yaa nahi.
kanta sharma on 06 May, 2010 11:12:27
avatar
meri dob 26 june1968 time 15:10 pm pleace udaipur rajasthan mera talak ho gaya hai ek tarfa mene nahi liya mene court case kiya hai kya muje safalta milegi to kab tab meri dusari shaadi hai to bhi kab tak bahut pareshaan hu
himmat on 22 May, 2010 02:46:09
avatar
mera naam himmat hey meri dob 01/06/1987 hey or meri gf ki dob 14/02/1992 hey naam kinjal hey kya humari shadi ho payegi ya nahi kya wo sucha pyaar karti hey.
kiran on 14 August, 2010 08:47:31
avatar
mera nam kiran he meri dob 5/5/1992 he or gf ki dob 3/7/1993 nam bhakti me ladki se love karta hu par meri uske sath sadi hogi ya nahi
manoj on 22 August, 2010 12:44:45
avatar
my Love Problem in Brakeup Second time She Come in my Life How maney time
bhujang kedare on 16 September, 2010 11:40:58
avatar
i want to ask u that i dont have love in my life when will i get my true love before marriage?
DOB-17/05/1987
TIME-5.30 AM
PLACE-ACHALPUR(AMRAVTI)
pooja on 23 September, 2010 11:42:29
avatar
me jise love karti hu use meri shadi hogi
durgesh pandey on 29 October, 2010 10:06:23
avatar
meri shadi love marriage hogi ya nahi? my dob- 30-11-1990 time 9:45pm pratapgarah uttarpardesh
RAVI KUMAR on 03 December, 2010 12:16:17
avatar
MEIN APNI PADOS KI LADKI PRIYA SE PYAR KARATA HU, KUCH SAMAY PHALE LAGATA THA KI WO MUJHASE PYAR KARATI HAI PAR AB JANE KYO RUTHI HAI KYA WO MUJHSE PYAR KARTI HAI PHIR BAAT KAREGI, MERA DOB-21-04-1985,DOT-09:10:00PM DOP-ARA (BIHAR) KUCH UPAY BATAIYE KI HAMARI SHADI HO JAYE.

Post your comment comment

Please enter the code you see in the image: