Home | प्रश्न ज्योतिष | प्रश्न कुण्डली से रोग एवं उनके उपचार (Diseases and their remedies from Prashna Kundali)

प्रश्न कुण्डली से रोग एवं उनके उपचार (Diseases and their remedies from Prashna Kundali)

Font size: Decrease font Enlarge font
image Diseases and their remedies from Prashna Kundali

ज्योतिषशास्त्र की दृष्टि से देखा जाए तो जीवन की हर छोटी बड़ी घटना ग्रहों से प्रभावित होती है.स्वास्थ्य सम्बन्धी परेशानियों एवं रोग का कारण भी ग्रह हैं.ज्योतिष की विधा प्रश्न कुण्डली रोग के विषय में क्या कहती है

मानव शरीर पंचभूतों से बना हुआ है.इन पंच भूतों पर आकाशीय ग्रहों का प्रभाव बना रहता है.ज्योतिषशास्त्र की दृष्टि से देखा जाए तो जीवन की हर छोटी बड़ी घटना ग्रहों से प्रभावित होती है.स्वास्थ्य सम्बन्धी परेशानियों एवं रोग का कारण भी ग्रह हैं.ज्योतिष की विधा प्रश्न कुण्डली रोग  (Prashna kundali on health matters). के विषय में क्या कहती है  

रोग के कारक ग्रह (Planets related to diseases)
बुखार, हृदय सम्बन्धी रोग, नेत्र रोग, सिर दर्द, अस्थियों में तकलीफ, पित्त दोष ये ऐसे रोग हैं जिनके कारक ग्रह सूर्य हैं.सर्दी - खांसी, फेफड़ों में परेशानी, नजला, जुकाम, क्षय रोग, श्वास सम्बन्धी रोग एवं मानसिक रोगों के लिए चन्द्र कारक होता है.एलर्जी, पागलपन, हिस्टीरिया, चर्म रोग, मिर्गी एवं सन्निपात के लिए बुध उत्तरदायी होता है.पीलिया, पेट की खराबी, गुर्दे में परेशानी, वायु विकार, मोटपा जैसे रोगों के लिए गुरू उत्तरदायी होते है.शुक्र के प्रभाव से गुप्त रोग, कमज़ोरी, प्रदर, मधुमेह का सामना करना होता है.जोड़ों में दर्द, नाड़ी सम्बन्धी दोष, गठिया, सूखा, पेट दर्द की तकलीफ का कारण शनि होता है.

सूर्य और मंगल के कारण बवासीर, सिर दर्द, चोट, ब्लड प्रैशर, रक्त विकार की समस्याओं का सामना करना होता है.सूर्य और बुध के प्रभाव से एलर्जी, मियादी बुखार, पीलिया, सन्निपात, क्षय रोग होता है.सूर्य और राहु के योग से कैन्सर, एनीमिया, गर्भाशय के रोग, प्रदर एवं कुष्ठ रोग का सामना करना होता है.सूर्य और शुक्र के योग से वीर्य दोष, पागलपन, गुप्त रोग का सामना करना होता है.

रोग निदान (Remedies through Prashna Kundali)
प्रश्न कुण्डली में प्रथम, पंचम, सप्तम एवं अष्टम भाव में पाप ग्रह हों और चन्द्रमा कमज़ोर या पाप पीड़ित हों तो रोग का उपचार कठिन होता है जबकि चन्द्रमा बलवान हो और 1, 5, 7 एवं 8 भाव में शुभ ग्रह हों तो उपचार से रोग का ईलाज संभव हो पाता है.पत्रिका में तृतीय, षष्टम, नवम एवं एकादश भाव में शुभ ग्रह हों तो उपचार के उपरान्त रोग से मुक्ति मिलती है.सप्तम भाव में शुभ ग्रह हों और सप्तमांश बलवान हों तो रोग का निदान संभव होता है.चतुर्थ भाव में शुभ ग्रह की स्थिति से ज्ञात होता है कि रोगी को दवाईयों से अपेक्षित लाभ प्राप्त होगा.

प्रश्न कुण्डली में रोग से सम्बन्धित भाव (Houses related to diseases in Prashna Kundali)
प्रश्न ज्योतिष के अनुसार प्रश्न कुण्डली में लग्न स्थान चिकित्सक का (First house belongs to the physician), चौथा स्थान उपचार और दवाईयों का होता है.कुण्डली में छठा एवं सातवां भाव रोग का घर होता है व दशम भाव रोगी का होता है.प्रश्न कुण्डली के लग्न स्थान में शुभ ग्रह विराजमान हों अथवा इस स्थान को शुभ ग्रह देख रहे हों तो यह समझना चाहिए कि आप कुशल चिकित्सक की सलाह ले रहे हैं.चतुर्थ भाव शुभ ग्रह या शुभ ग्रहों की दृष्टि या युति है तो इस बात का संकेत समझना चाहिए कि रोग सामान्य उपचार से ठीक हो जाएगा.प्रश्न पूछे जाने के समय षष्टम एवं सप्तम भाव पर शुभ ग्रहों का प्रभाव हो एवं षष्ठेश और सप्तमेश निर्बल हों (If the sixth-lord and the seventh-lord is debilitated, then the ailment takes time to cure) या इनको शुभ ग्रह देख रहे हों तो मर्ज धीरे धीरे जाने का संकेत मिलता है।

Comments (16 posted):

Isht Deo Sankrityaayan on 04 March, 2009 09:57:46
avatar
बड़ी दिलचस्प बात आप बता रहे हैं. इसे आगे जारी रखें.
Pt. D.D.Vyas on 16 March, 2009 05:42:21
avatar
yah jaankari bahut hi kaam ki hai. aisi jaankaari aage bhe dete rahe.
swapna on 21 March, 2009 03:43:19
avatar
aap isee tara jankari de
revendra singh on 25 March, 2009 07:35:23
avatar
bhut aacha hai.
sangeeta on 12 June, 2009 11:43:12
avatar
yaha bahut aachi jankari hai aisi book koi ho to main parna chahungi....
main ek bat or janana chahati hu ki..intution barane ke liye kya kerna chahiye
sanjeev kumar saini on 14 July, 2009 03:37:46
avatar
i have sweeling in legs i want to know that when can i get relif with this problem my date of birth is 22 january 1970 pls guide me for the same .
taruna atul burghate on 26 October, 2009 07:13:42
avatar
i am 38yrs i have sweeling on all body my medical reports are normal when i walk i get imbalance iam always afraid of death and negative thought and short tempered please help me in my trobule
suraj prakash on 09 December, 2009 01:36:23
avatar
iam suffering from BLEEDING PILES for the last six months coupled with indigestion /constipation. As a result my HB has come down to below 7 gm . Indigestion and constipation just not allowing bleeding piles to heal. Please suggest some mantra for treatment of ( GUPT ROGH ) if any more particularily for the disease iam suffering. My DOB is 03/04/1958 time 7.30 AM
parveen chawla on 14 December, 2009 09:33:17
avatar
mera veedash jane ka yog hi
DOLATBHAI BHAGUBHAI PATEL on 15 January, 2010 10:23:14
avatar
finance problem or grah dasa.
pradeep kumar on 01 May, 2010 11:07:58
avatar
its best if prooved true.
hemant panwar on 11 June, 2010 02:39:05
avatar
business me bad debts stop karne ke koi upay, phase hua paise nikalne ke koi upay bataye,
ramsingh on 07 July, 2010 07:42:45
avatar
BAHUT ACHCHI BATE HAI
supriya patwardhan on 23 September, 2010 06:41:53
avatar
mery amla-pitta ki shikayat hai.
mery karka rashi hai.
free salah dijiye.
veeru Dwivedi on 15 November, 2010 07:46:09
avatar
bahut hi aachhi jankari aap ke dwara milrahi hai sisse logome jyotish ke prati vishwash jagega
anil kumar on 19 November, 2010 01:31:53
avatar
grehon ke bare mai bahaut achhi jankari aap de rahe hain aage bhi logo ko aisi jankari dete rahe bhagwan aap ko aur
(safal banai)

anil kumar

Post your comment comment

Please enter the code you see in the image: